थर्ड पार्टी बीमा क्या होता है – Third Party Vehicle Insurance kya hota hai in Hindi

Third Party Insurance – थर्ड पार्टी बीमा : आप यह तो सब अच्छी तरह जानते हो। भारत एक विकासशील देश है। और यहाँ की सड़कें सुरक्षित नहीं हैं। सड़कों को हालात बहुत ही खराब स्थिति में है। जिसके कारण बहुत दुर्घटनाएं होती है। इस दुर्घटनाएं होने के बाद भी वर्तमान समय में बहुत से वाहनो का बिमा नही है। गाड़ी को हर कोई खरीद लेता है। परंतु बिमा (bima)  नही कराते है। वह इस बिमा को फालतू समझते है। बिमा नही कराने का एक और कारण है जो यह है कि। बिमा को राशि बहुत अधिक होती है। आज हम आपको ऐसे बीमा के बारे में बता रहे हैं। जिसे आप करा सकते हो। और वह बिमा अन्य बीमा से बहुत ही सस्ता भी होता है। आप हमारी यह जानकारी को पूरा पढ़िये। क्योकि यह जानकारी आपके लिये बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी है।

Third Party Vehicle Insurance kya hota hai

Third Party Insurance kya hota hai – थर्ड पार्टी इन्शुरन्स बिमा क्या होता है

आप जब नयी गाड़ी लेते हो। जब आपको बिमा कराना जरूरी होता है। यदि आपका बजट कम है तो आप थर्ड पार्टी बिमा करा सकते हो। यह अन्य बिमा से थर्ड पार्टी इन्शुरन्स सबसे सस्ता होता है। सस्ता होने का मतलब यह नही होता है। आप यह ही कराये। इसमें आपको सुविधाये भी कम ही मिलती है। यदि आपकी गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो जाती है। तो आपको इसके कोई रूपये नही मिलते है। यदि आपको इस प्रकार का बिमा कराना है। अगर आपके वाहन से कोई दुर्घटना हो जाती है तो उसमें बैठे लोग और ड्राइवर के आर्थिक नुकसान की भरपाई बीमा कंपनी करती है। इसे थर्ड बिमा कहते है। आप यह भी जान ले की बिमा में प्रथम पक्ष, बिमा में द्वितीय पक्ष,बिमा में तृतीय पक्ष क्या होता है।

बिमा में थर्ड पार्टी कौन होता है

जब वाहन खरीदते है। इसमें तीन पक्षों की भूमिका होती है। जो की इस प्रकार है।
बिमा में प्रथम पक्ष – यह वो होता है जो बिमा करवाता है। यदि आप किसी वाहन का बिमा करवाते हो तो आप इसमें प्रथम की भूमिका निभाते हो।
बिमा में द्वितीय पक्ष – आपने जिस कंपनी से आपका वाहन का बिमा कराते हो। वो कंपनी द्वितीय पक्ष कहलाती है। दूसरे मतलब से समझे तो जो कि बीमा पॉलिसी प्रथम पक्ष को बेचती है। उसे द्वितीय पक्ष कहते है।
बिमा में तृतीय पक्ष – इसमें जो बिमा करवाता है। और जो कपंनी बिमा करती है। इसमें वह शामिल नही होता है। इसमें एक और पक्ष होता है। उसे तृतीय पक्ष कहते है।
आपके वाहन से कोई दुर्घटनाग्रस्त होने से किसी सामान या कोई व्यक्ति घायल अथवा मृत्यु हो जाती है। अथवा किसी सामान अथवा वस्तु का नुकसान पहुँचता है। जिसे नुकशान पहुँचता हे उसे तृतीय पक्ष के रूप में जाना जाता है।

थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के फायदे

  • अगर किसी वाहन के साथ दुर्घटना हो जाती है तो फुल टाइम बीमा में सभी तरह के नुकसान की भरपाई बीमा कंपनी करती है। इसमें दुर्घटना के समय वाहन में बैठे लोगों के साथ ड्राइवर और वाहन के अलावा सामने वाले वाहन, उसमें बैठे लोग और ड्राइवर के आर्थिक नुकसान की भरपाई बीमा कंपनी करती है।
  • यदि दुर्घटना हो जाती है। दुर्घटना के दौरान तीसरे पक्ष की मौत हो जाती है तो बीमा कंपनी इसका भुगतान करती है।
  • अन्य बिमा की तुलना में यह थर्ड पार्टी बिमा सबसे सस्ता बिमा होता है। इस बीमे के लागत बहुत ही हम आती है।

आसानी से बिज़नेस लोन कैसे ले
मुद्रा लोन कैसे ले
Life Insurance kya he जीवन बीमा क्या होता है और जीवन बीमा के क्या फायदे हैं

थर्ड पार्टी इंश्योरेंस के कितना है प्रीमियम

यदि थर्ड पार्टी इंश्योरेंस की प्रीमियम की बात करे तो यह केवल आपके वाहन के इंजन और क्यूबिक साइज पर निर्भर करता है – आपके वाहन का साइज जितनी ज्यादा होगा, आपकी प्रीमियम उतना ही अधिक होगा। आपके वाहन की क्यूबिक क्षमता के अनुसार वर्गीकृत प्रीमियम तालिका इस प्रकार है। यह वार्षिक प्रीमियम समय समय में बदलते रहते है।

वाहन की क्षमता वार्षिक प्रीमियम

  1. आपके पास 1000 cc से कम क्षमता वाली वाहन हे तो आपको एक साल के लिये 1,850 का बिमा होता है।
  2. आपके पास 1000-1500 cc इंजन वाला वाहन हे तो आपको एक साल में  2,863 की बिमा करना होगा।
  3. यदि आपके पास 1500 cc से बड़ा इंजन वाला वाहन हे तो आपको 7,890 का खर्चा आएगा।

दो पहिया वाहन थर्ड पार्टी बिमा

  1. 75 cc से कम इंजन वाले वाहन के लिए – 427 रूपये का बिमा कराना होता है।
  2. 75 cc से 150cc तक के दो पहिया वाहन के लिए – ₹720 का बीमा कराना होता है।
  3. 150cc से 350 सीसी तक के दो पहिया वाहन के लिए – ₹950 का
    350 सीसी से ऊपर दो पहिया वाहन के लिए – 2323 रुपए बिमा कराना होता है।

कमर्शियल वाहनों के लिए थर्ड पार्टी बिमा की राशि

  1. 1000 सीसी से कम क्षमता वाले वाहन के लिए – 5437 रूपये
  2. 1000 सीसी से 1500 CC वाहन के लिए – 7147 रूपये
  3. 1500 CC से अधिक क्षमता वाले वाहन के लिए – ₹9472

Third Party Vehicle Insurance के अंतर्गत सम्मिलित देनदारी

यदि आप Third Party Insurance कराते हो। इसका मतलब यह नही है। आपको एक रूपये का भी खर्चा नही आएगा। भारतीय संविधान के अनुसार दुर्घटना से होने वाले शारीरिक अथवा संपत्ति के नुकसान का न्यूनतम मूल्य वाहन चालक को चुकाना होता है। जो की इस प्रकार है।

थर्ड पार्टी वाहन बीमा / Third Party Vehicle Insurance के अंतर्गत मुख्य रूप से दो चीजों की देनदारी सम्मिलित की गई है |
1. शारीरिक क्षति के लिए देनदारी
2. संपत्ति की क्षति के लिए देनदारी

शारीरिक क्षेत्र के लिए देनदारी –
यदि थर्ड पार्टी वाहन बीमा / Third Party Vehicle Insurance के अंतर्गत कवर किया गया कोई वाहन दुर्घटनाग्रस्त हो जाता है | और वाहन से किसी अन्य व्यक्ति को शारीरिक रूप से नुकसान होता है। तो उसका हर्जाना बीमा कंपनी द्वारा भरा जाता है। इस हर्जाने में अस्पताल का खर्च , उसकी कमाई को हुआ नुकसान और अन्य परेशानियों का खर्चा भी शामिल किया जाता है।  दुर्घटना से प्रभावित व्यक्ति अथवा उसके परिवार को कितना हर्जाना मिलेगा। इसका निर्धारण उसकी कमाने की क्षमता , आर्थिक हैसियत पर निर्भर करता है |

संपत्ति की क्षति के लिए देनदारी –
थर्ड पार्टी वाहन बीमा / Third Party Vehicle Insurance के अंतर्गत संपत्ति को होने वाले नुकसान की भरपाई बीमा कंपनी द्वारा किया जाता है |

आपने Third Party Vehicle Insurance करा रखा है तो इसका मतलब यह नही होता है। जो मुकदमा चलेगा। वह भी बिमा कंपनी के ऊपर चलेगा। यह बिल्कुल गलत है। जो मुकदमा चलता हे वो आपके ऊपर ही चलता है। बिमा कंपनी सिर्फ अंतर्गत संपत्ति को होने वाले नुकसान की भरपाई बीमा कंपनी करती है।

चार पहिया वाहन के लिए तीन साल का थर्ड पार्टी इंश्योरेंस जरूरी

सड़क दुर्घटनाओं के मामलों में सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है कि नए वाहनों के रजिस्ट्रेशन के समय थर्ड पार्टी इंश्योरेंस अनिवार्य होगा. सुप्रीम कोर्ट ने एक सितंबर से नए चार पहिया वाहनों का रजिस्ट्रेशन कराते समय तीन सालों के लिए थर्ड पार्टी इंश्योरेंस अनिर्वाय किया है। दो पहिया वाहनों के लिए पांच साल तक के लिए थर्ड पार्टी इंश्योरेंस अनिर्वाय किया गया है।
पहले यह Third Party Vehicle Insurance एक साल के लिये भी हो जाता था। परन्तु अब आब 4 पहिये वाले वाहन खरीदते हो तो 3 साल के लिये Third Party Vehicle Insurance करना होगा।

आज हमने हमने आपको पार्टी बीमा क्या होता है, Third Party Vehicle Insurance kya hota hai, इसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी दे चुके है। यदि आपको Third Party Vehicle Insurance से सम्बंधित और कुछ प्रश्न पूछना हो तो आप हमें कमेंट करे। हम आपके सवाल का उत्तर जरूर देंगे।

कार लोन कैसे ले
चेक कैसे भरे सीखे
गोल्ड लोन कैसे ले

Updated: 11/10/2018 — 7:56 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

in hindi © 2018 Frontier Theme