Categories
Bank

लोन के प्रकार आपको किस तरह के लोन की जरूरत है

लोन के प्रकार

लोन के प्रकार : Loan तीन प्रकार के होते है।
अल्पकालिक लोन : इस तरह के Loan में पैसे लौटाने की अवधि एक साल से कम होती है।

मध्यकालिक लोन : इस loan में पैसे लौटाने की अवधि एक साल से तीन साल के बीच होती है।

दीर्घकालिक लोन :
इस प्रकार के loan में पैसे लौटाने की अवधि तीन साल से ज्यादा होती है।

लोन इन हिंदी
बैंक कई तरह के लोन देता है। और हर बैंक का लोन इंटरेस्ट रेट्स अलग अलग होता है। इस लिए लोन आवेदन करने से पहले आप लोन इंटरेस्ट रेट्स के बारे में जरूर जान ले

लोन के प्रकार
पर्सनल लोन (Personal Loan)
गोल्ड लोन (Gold Loan)
सिक्यूरिटी के बदले मिलने वाला ऋण (Loan against Securities)
प्रॉपर्टी लोन (Property Loan)
होम लोन (Home Loan)
एजुकेशन लोन (Education Loan)
वाहन या कार लोन (Vehicle or Car Loan)
कॉर्पोरेट ऋण (Corporate Loan)

कई लोग है जो यह तो जानते है की बैंक ऋण देता है। पर यह नही जानते है की, Bank किन काम के लिये किस प्रकार का ऋण देता है। तो आइये हम लोन के प्रकार को समझते है।

लोन इन हिंदी

पर्सनल लोन (Personal Loan) : इस लोन के जरिये आप अपनी हर तरह की पर्सनल ज़रूरतों को पूरा कर सकते हैं। Bank व दूसरी वित्तीय संस्थाओं द्वारा निशचित ब्याज़ दर पर पर्सनल लोन की सुविधा प्रदान की जाती है। इसका मतलब घूमने जाने से लेकर, TV खरीदने, ज्वेलरी ख़रीदने, बिज़नेस शुरू करने, क्रेडिट कार्ड का पैसा भरने तक की किसी भी जरूरत के लिए पर्सनल लोन प्राप्त किया जा सकता है। bank हमे पर्सनल लोन के लिए 50,000 रुपए से लेकर अधिकतम 50,0000 रुपए तक की रकम Loan के रूप में दे सकते है। आप ऋण के पैसों का किस तरह इस्तेमाल करते हैं, इससे बैंक या आर्थिक संस्थाओं को कोई फर्क नही पड़ता है। वैसे तो बैंक आपको पर्सनल लोन देते समय ज्यादा documents नहीं मांगते। bank सिर्फ आपकी salary देखते हैं और लोन दे देते है। मतलब ऋण लेने में ज्यादा परेशानी नही आती है। पर्सनल लोन आपको short-term necessity के लिए ही लेना चाहिए। पर्सनल लोन 4 वर्ष के भीतर लौटा देना अनिवार्य है।

personal loan kaise le

गोल्ड लोन (Gold Loan) :

कई लोग यह नही समझ पाते है, की गोल्ड लोन क्या है। अगर सीधी भाषा में कहूँ तो। अपने सोने को बैंक को देकर उसके बदले में पैसा लेना ही गोल्ड लोन कहलाता है। बैंक आपके सोने का वजन करता है और उसकी शुद्धता नापता है। और उसी हिसाब से बैंक आपको आपके सोने के बदले में ऋण दे देता है। साधारणतः यह देखा गया है की बैंक आपके सोने की कीमत का 80% ही आपको Loan के रूप में देता है। गोल्ड लोन पर ब्याज कम लगता है क्योकि बैंक के पास securitey के तोर आपका सोना है। वर्तमान में SBI bank गोल्ड लोन पर 11.15% वार्षिक ब्याज दर वसूल रहा है।

सिक्यूरिटी के बदले मिलने वाला ऋण (Loan against Securities) : कई लोग यह नही समझते है की सिक्यूरिटी लोन क्या होता है। तो में आपको बताता हूँ। इस ऋण में bank आपके सिक्यूरिटी पेपर को रख कर Loan देता है। तो आप सोच रहे होंगे की यह सिक्यूरिटी पेपर क्या है। सिक्यूरिटी पेपर कोई भी चीज हो सकती है, जो आपके लिए जरूरी हो जैसे :- यदि आपने DEMAT share, mutual funds, insurance schemes, bonds में पहले से ही invest किया है तो यही आपके security papers हैं। यदि लोन चुकाने में असमर्थ हैं तो बैंक आपके सिक्यूरिटी पेपर को जब्त कर लेता है और बाज़ार में बेच देता है। यदि आप आपने सिक्यूरिटी पेपर को bank में गिरवी रखते हो तो बैंक आपको आपके इन पेपर की वेल्यु के आधार पर overdraft की सुविधा देता है। अब आपके दिमाग में यह होगा की ओवरड्राफ्ट क्या होता है। Overdraft का अर्थ है कि जितना आपके अकाउंट में रुपये हैं (even if zero rupee), bank आपको उससे अधिक पैसे निकालने की सुविधा देता है।

मुद्रा लोन के लिए केसे apply करे

होम लोन (Home Loan) : होम लोन क्या है यह बात तो आप भी जानते हो और इस ऋण से परिचित भी हो। घर खरीदने के लिए Bank हमे जो राशि देता है उसे ही होम लोन कहा जाता है। आप सिर्फ घर बनाने के लिए या खरीदने के लिए ऋण नहीं लेते हो बल्कि आप घर बनाने की कीमत, मकान का रजिस्ट्रेशन, स्टाम्प ड्यूटी आदि के व्यय को जोड़कर बैंक से लोन उठा सकते हैं। बैंक आपके घर पर खर्च होंने वाली कुल राशि का 75 से 85% तक लोन दे सकती है। होम लोन चुकाने की अवधि 5 साल से 20 साल तक हो सकती है। लोन की शर्तों में ब्याज के अतिरिक्त कुछ शुल्क भी शामिल होते हैं जैसे process fee, administrative charges, legal fees, assessment fees आदि।

प्रधानमंत्री आवास योजना – pradhan mantri awas yojana in Hindi

एजुकेशन लोन (Education Loan) : आप इस नाम से ही समझ गये होंगे की यह किस तरह का ऋण है। अगर आपको आगे पढ़ाई करनी हो उसके लिये आपको पैसो की जरूरत है। तो आप क्या करोगे या कोई अपनी आगे की पढ़ाई के लिए विदेश जाकर पड़ना चाहता है। उस समय लोग एजुकेशन लोन लेते है। Bank एजुकेशन लोन देने से पहले उसकी रिपेमेंट सुनिश्चित करता है। Bank एजुकेशन लोन उन्हीं छात्रों को देता है, जो इसे वापस करने की क्षमता रखते हैं। पर उनकी क्षमता की जांच कैसे होती है? या तो उनके अभिवावक के वेतन को देखा जाता है, या फिर Loan लेने वाला छात्र किस विश्वविद्यालय में जा रहा है? वहां से पढ़कर वह कितना कमाएगा या नहीं? वहां कैंपस सिलेक्शन का रेश्यो क्या है? यह सब देखकर ही बैंक ऋण देती है। पढ़ाई खत्म करने के बाद छात्र यह ऋण चुका सकता है। ऋण लेने के लिए किसी गारंटर की जरूरत पड़ती है। गारंटर लोन लेने वाले का अभिभावक या फिर रिश्तेदार हो सकते हैं। वर्तमान में SBI Bank 7.50 लाख के ऊपर 11.15% और 7.50 लाख के ऊपर 10.85% का ब्याज लेता है।

एजुकेशन लोन कैसे ले – education loan kaise le in hindi

वाहन या कार लोन (Vehicle or Car Loan) : इस Loan के बारे में तो हर कोई जानता है। जब हमे कोई वाहन खरीदना हो और हमारे पास पैसे कम होते है, उस परिस्थिति में आप वाहन लोन ले सकते हो। इस Loan में दो तरह की ब्याज डर होती है। Fixed या floating rate, आप Loan लेते समय कोई भी एक चुन सकते हो।
कार लोन कैसे ले – Car loan kaise le

कॉर्पोरेट लोन (Corporate Loan) : यह लोन साधारण लोगों के लिये नही है। इस Loan को सिर्फ बड़े कारोबारी ही ले सकते है। जैसे विजय माल्या , अम्बानी भाइयों, टाटा, बिरला आदि। इस Loan में bank अपनी कोर कैपिटल का 55 प्रतिशत तक किसी एक बड़ी कंपनी को लोन दे सकता है। पर कुछ डिफॉल्टर की वजह से RBI ने नया नियम बनाया है। 1 जनवरी 2019 से सिर्फ कोर कैपिटल का 25 प्रतिशत ही Loan दे सकते है। ताकि बैंक का जोखिम कम हो।
1. प्रधानमंत्री आवास योजना – pradhan mantri awas yojana in Hindi
2. Credit card क्या है और केसे काम करता है – credit card kya he
3. Life Insurance kya he जीवन बीमा क्या होता है और जीवन बीमा के क्या फायदे हैं लाइफ इन्शुरन्स प्लान्स और पॉलिसी Jivan Bima Yojana सावधानिया
लोन इन हिंदी में आपको यह जानकारी केसी लगी जवाब जरूर दे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *