Share market news hindi

IDFC ने कहा- IDFC First Bank के प्रमोटर से हट सकते हैं, 5 साल का lock-in period हुआ समाप्त IDFC says can now exit as promoter of IDFC First Bank as 5-year lock-in period over

IDFC ने कहा- IDFC First Bank के प्रमोटर से हट सकते हैं, 5 साल का lock-in period हुआ समाप्त IDFC says can now exit as promoter of IDFC First Bank as 5-year lock-in period over

आईडीएफसी लिमिटेड (IDFC Limited) ने आज यानी 21 जुलाई को कहा कि वह आईडीएफसी फर्स्ट बैंक के प्रमोटर पद से हट सकता है क्योंकि उनके 5 सालों की अनिवार्य समय-सीमा (lock-in period) समाप्त हो गई है।

कंपनी ने स्टॉक एक्सचेंज को भेजे पत्र में कहा है कि हम आपको सूचित करना चाहते हैं कि भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India (RBI) ने उसके पत्र क्रमांक DOR..HOL.No.SUO‐75590/16.01.146/2021‐22 दिनांक 20 जुलाई 2021 में स्पष्ट किया है कि 5 साल की लॉक-इन-पीरियड की समाप्ति के बाद आईडीएफसी लिमिटेड चाहे तो IDFC FIRST Bank Limited के प्रमोटर पद से हट सकता है।

आरबीआई के नियमों के अनुसार, गैर-ऑपरेटिव वित्तीय होल्डिंग कंपनी (non-operative financial holding company), जो बैंक की प्रमोटर है, की शेयरधारिता बैंक की चुकता वोटिंग इक्विटी पूंजी (paid up voting equity capital) का कम से कम 40 प्रतिशत होनी चाहिए, जो कि बैंक के कारोबार के शुरू होने की तारीख से 5 साल की अवधि के लिए लॉक हो जाएगी।

आईडीएफसी बैंक को आरबीआई द्वारा 2014 में बंधन बैंक (Bandhan Bank) के साथ लाइसेंस दिया गया था। साल 2018 में आईडीएफसी बैंक लिमिटेड और कैपिटल फर्स्ट लिमिटेड (Capital First Ltd) ने घोषणा की थी कि उन्होंने आईडीएफसी फर्स्ट बैंक (IDFC First Bank) बनने के लिए विलय कर लिया है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The Latest

To Top