Share market news hindi

Stock Market: बकरीद के मौके पर क्या शेयर बाजार बंद रहेगा

Stock Market: बकरीद के मौके पर क्या शेयर बाजार बंद रहेगा?

इक्विटी, करेंसी और डेरिवेटिव बाजार बुधवार 21 जुलाई को बकरीद के मौके पर बंद रहेंगे। दलाल स्ट्रीट और देशभर में बुधवार को बकरीद का त्यौहार मनाया जाएगा। कमोडिटी मार्केट मॉर्निंग सेशन में बंद रहेगा लेकिन इवनिंग सेशन में कमोडिटी मार्केट में कामकाज होगा। बीएसई सेंसेक्स और एनएसई निफ्टी ट्रेडिंग के लिए 22 जुलाई गुरुवार को खुलेंगे।

 

मंगलवार को गिरा बाजार
शेयर बाजार में मंगलवार को लगातार तीसरे कारोबारी सत्र में गिरावट आयी और बीएसई सेंसेक्स 355 अंक लुढ़क गया। कोरोना वायरस के डेल्टा किस्म के तेजी से फैलने को लेकर चिंता के बीच वैश्विक स्तर पर बिकवाली का असर घरेलू बाजार पर भी पड़ा। बैंक और वित्तीय शेयरों में बिकवाली का घरेलू बाजार में गिरावट पर ज्यादा असर हुआ है। हालांकि डॉलर के मुकाबले रुपये में तेजी और खपत से जुड़े शेयरों में लिवाली से नुकसान पर अंकुश लगा।

सेंसेक्स-निफ्टी का हाल
तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 354.89 अंक यानी 0.68 प्रतिशत की गिरावट के साथ 52,198.51 अंक पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 120.30 अंक यानी 0.76 प्रतिशत का गोता लगाकर 15,632.10 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स के शेयरों में 3.32 प्रतिशत की गिरावट के साथ सर्वाधिक नुकसान में इंडसइंड बैंक का शेयर रहा। इसके अलावा टाटा स्टील, एनटीपीसी, भारती एयरटेल, एचसीएल टेक, आईसीआईसीआई बैंक, महिंद्रा एंड महिंद्रा और एचडीएफसी बैंक में भी प्रमुख रूप से गिरावट रही। दूसरी तरफ, एशियन पेंट्स 6.04 प्रतिशत मजबूत होकर सर्वाधिक लाभ में रहा। कंपनी का जून तिमाही में शुद्ध लाभ दोगुना बढ़कर 574.30 करोड़ रुपये रहने की खबर से शेयर में तेजी आयी।

शेयर बाजार की कमजोरी की वजह
जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के रिसर्च हेड विनोद नायर ने कहा, “कच्चे तेल के भाव में तेज गिरावट और अमेरिकी बांड यील्ड के भाव की वजह से भविष्य की आर्थिक ग्रोथ से जुड़ी चिंताएं सामने आई हैं। इसके साथ ही प्रीमियम वैल्यूएशन, एफओएमसी की आगामी मीटिंग और विदेशी निवेशकों की बिकवाली की वजह से भारतीय शेयर बाजार में कमजोरी दर्ज की जा रही है।”

कोरोना संक्रमण का भी असर
जूलियस बेयर में इक्विटी रणनीति शोध प्रमुख मैथ्यू रैचेटर ने कहा कि वैश्विक शेयर बाजारों में दुनिया भर में डेल्टा किस्म के तेजी से फैलने, मुद्रास्फीति में तेजी से समय से पहले मौद्रिक नीति को कड़ा किये जाने की आशंका और चीन में कर्ज लेने की दर में कमी जैसे कारणों से वैश्विक शेयर बाजारों को झटका लगा है। कुल मिलाकर इन कारणों से वैश्विक वृद्धि को लेकर उम्मीद कमजोर हुई, जिसका असर शेयर बाजारों पर पड़ा।’’

शेयर बाजार पर प्रभाव
वैश्विक बाजारों में शंघाई, हांगकांग, सियोल और टोक्यो नुकसान में रहे। हालांकि यूरोप के प्रमुख शेयर बाजारों में मध्याह्न कारोबार में तेजी का रुख रहा। इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.35 प्रतिशत की तेजी के साथ 68.86 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 27 पैसे मजबूत होकर 74.61 पर बंद हुआ। शेयर बाजार के पास उपलब्ध आंकड़े के अनुसार विदेशी संस्थागत निवेशक सोमवार को पूंजी बाजार में शुद्ध रूप से बिकवाल रहे। उन्होंने 2,197 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

The Latest

To Top